दरखास्त…

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
बिखरे यादों को सहेजने दे,
ज़रा मेरे प्यार की कली को,
खिल कर फूल बनने दे।

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
दरखास्त है तुझसे मेरे दिल की,
अभी तो मिले थे उनसे,
अभी तो सासें भी एक नहीं हुई।

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
मुझे और थोड़ा जीने दे,
प्यार तो किया उन्हें दिल से,
अब जुदाई का लम्हा भी जीने दे।

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
मौत बनकर तू पास ना आ,
या तो मुझे मेरा प्यार लौटा,
या उन्हें भूलने की साहस मुझे दे।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

2 thoughts on “दरखास्त…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s