टूटी सड़के, तंग गालियाँ

टूटी सड़के तंग गालियाँ,  लिए जीवन की बेबस घड़ियाँ,मैं निराला इस सड़क पे, पिए जीवन को भर प्याला में, अपनों को दिल में बिठाया, दिया  प्यार भरा संग,जीवन दिया प्यार दी, दिया इज़्ज़त भरी संसार, अपनी ख़ुशी त्याग, संग उसके दिल को लगाया,अपना संसार समझ, उसके घर को अपना बनाया, छोड़ आयी अपने माँ काContinue reading “टूटी सड़के, तंग गालियाँ”

तू भी और निकली

मिला तुझसे अच्छा लगा, हुआ जो तुमसे प्यार,सबसे अलग लगा मुझे, लगा एक कली खिली, दिल के बगीचे में, तेरे नाम का एक कली खिली,बनके फूल सुगंध भरी, महके मेरा मन जो तेरे संग, खोजे नयन तेरी ख़ुशी, जो मेरे मन के द्वारे,जीने के इस डगर पे, संग जीने को तुम्हारे, कठोर किए मन, संझाContinue reading “तू भी और निकली”

बाइस्कोप

बाइस्कोप वाला आया, बाइस्कोप वाला आया,गला फाड़ चिल्लाया, बाइस्कोप वाला आया,ये बोल सुन, नन्हे मुन्ने बच्चों का मन ललचाया,खेल कूद सब छोड़, दौर पड़े बाइस्कोप देखने, बाइस्कोप की सुनहरी दुनिया, कहानी है अनेक.पच्चीस पैसे का एक चक्र, देखे जो बच्चे मिलकर चार,कभी कहानी उन वीरों की, कभी देश के क़िले महान,कभी देखे मुंबई की शान,Continue reading “बाइस्कोप”

सुंदरता क्या है?

दिल की खुशी  जब रिस्तो में  उतर  आये,हंशी  खुशी,  जो  जीवन में  बस जाए,हर पल हवा में उड़ता रहु, सपनो की सागर  में  गोते खाऊ,ढून्ढ  लाऊ  ख्वाब का वो पाल,ये पल, जो निश्चल, है सुंदर. के.के.

चाहत

जीने की चाहत लिए, तेरी मिलन कि आस लिए,जी रहा हूँ मैं हर पल, बस तेरी इंतज़ार में,ज़िंदगी कुछ रंग दिखा, मुझे उसके संग मिला,मेरी चाहत की मंजिल, बस मुझे अब उससे मिला, कही मिलन में देर ना हो, अरमान सारे ढेर ना हो,जीने की चाह मेरी,  अनजाने में ये अधेड़  ना हो,बिखर सा रहContinue reading “चाहत”

अकेला

अपने पथ पे अग्रसर, जीवन जी रहा अकेला,ख़ुशियाँ जो बाँट सभी से,  ये ग़म सभी है मेरा,तुम्हारी याद संग, जीवन  का ग़म संजोए,जीने को मजबूर, दिल ये मेरा रोए. फिर भी ये दिल मेरा, चाहे हर पल तुझे,तेरी याद में, दिल अंधकार में उलझ,उदासी के बादल जो उमरे, घनघोर घटा सा,अश्रु बन वर्षा, इन नयनोंContinue reading “अकेला”

यादें

मूर्ख बन जी रहा था, तेरी याद में सोचा कभी तो क़िस्मत, देगी साथ मेरे ।पर किधर मालूम, ऊँची कितनी दिवार दिवार तेरे अहम का, पार ना कर पाया मैं।। एक दिन ऐसा आएगा, जब  ढूँढोगे मुझे लोक लज्जा अहम त्याग, प्यार करोगी मुझे ।साथ सदा पाओगी, बस मुड़ कर देख मुझेखड़ा अकेला उत्शुक, तेरी याद मन लिए।।Continue reading “यादें”

जीवन का उद्देश्य

रात्रि का ये अंधेरा, काली स्याह समान,मेरे मौन जीवन ,  खोजे सूर्य यामनी प्रहर, मेरे साँस की ये गंगा, बहे अनवरत हर पल,डूबे हुए मेरे जीवन, जो खोजे नई सवेरा. बढ़ता रहा जो पथ पे, सच के दीप संग,संघर्ष भरा जीवन, लिए अभिलाषा जीने की,लोक लाज का झूठआडम्बर, सबछोड़पीछे, जीवनपथपेअग्रसर,  लिएख़ुशियाँ  मेरेसंग. कही दूर से दिखे मुझे,Continue reading “जीवन का उद्देश्य”

प्यार की हद्द

ख़ुशी देती है ये मंजिल , रास्ते जो दर्द भरे,उड़ने की चाहत संजोए, उड़ूँ गगन के पार, पतंग सा मनचला, लहराता पवन के संग ,पर क्या जानू, डोर बंधी क़िस्मत  के  संग, ये जो दो पल का प्यार दिया,  तुमने मुझे तभी,दिल में सम्भाल कर रखा, इज़्ज़त के सहित. तेरे प्यार भरी ये छाया, एहसासContinue reading “प्यार की हद्द”

ये वक्त भी गुज़र जाएगा

ये गुज़र जाएगा मुश्किल भरा वक्त,खुद को मैं सम्भाल लूँगा खुद में रहकर,पर इस कठिन वक्त ने हमें क्या खूब दिखाया,यहाँ कौन हैं अपना और कौन हैं पराया, क्यों खुद का सभी सोचते हैं यहाँ ,इतनी ख़ुदगर्ज़ी क्यों हैं सब में भरा,कैसे और क्यों भूल जाते है हम उनको,जिनके साथ हम खुलकर हँसा करते थे,Continue reading “ये वक्त भी गुज़र जाएगा”

क्या हैं मेरी ख़ुशी

कभी कभी सोचता हूँ क्या हैं मेरी ख़ुशी,क्या तुमको पाना ही हैं जीवन उद्देश्य,या दूर रहकर खोजता रहूँ तुम्हारी ख़ुशी,क्या करूँ चाहत जो सच्ची हैं मेरे दिल में, यहाँ अपना बनाकर चाहते तो हैं सभी इंसान,कभी पराया बनकर चाहा है अपने प्यार कि ख़ुशी,लोग कहते है प्यार का अहसास मीठा होता है,चाहता हूँ इस अहसास को तुम दिल से महसूस करो, के.के.