दरखास्त…

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
बिखरे यादों को सहेजने दे,
ज़रा मेरे प्यार की कली को,
खिल कर फूल बनने दे।

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
दरखास्त है तुझसे मेरे दिल की,
अभी तो मिले थे उनसे,
अभी तो सासें भी एक नहीं हुई।

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
मुझे और थोड़ा जीने दे,
प्यार तो किया उन्हें दिल से,
अब जुदाई का लम्हा भी जीने दे।

ऐ समय तू ठहर जा ज़रा,
मौत बनकर तू पास ना आ,
या तो मुझे मेरा प्यार लौटा,
या उन्हें भूलने की साहस मुझे दे।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

सोचता हूँ कभी कभी…

सोचता हूँ कभी कभी,
कर लूँ प्यार एक बार फिर,
शायद मिल जाए मुझे भी कही,
जिसके दिल में धड़के प्यार मेरे लिए।

चाहत हैं ख़ुशियाँ फिर से मेरे कदम चूमे,
मेरी चाहत प्यार बनकर तेरी बाँहों में मेरी फिर से झूले,
देखता हूँ सपना और जीता हूँ बस तेरे प्यार में,
पर तेरा सपना देखना क्या मना हैं मेरे लिए।

बस एक कमी है मुझमें,
लो आज बता देता हूँ मैं तुम्हें,
चाहत तो हैं दिल में सिर्फ़ तेरे लिए,
पर विश्वास नहीं हैं तुम्हारे कहे गए बात पे।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

दोबारा…

चाहे लेना परे जन्म दोबारा,
चाहूँगा तुझे जितना चाहा हैं मैंने अभी,
पर एक बात समझ लो तुम मेरी,
समझाऊँगा नहीं तुम्हें मैं अपना प्यार कभी।

तुम्हारी कही हर बात से,
दर्द दिल में उठता है,
पर एक बात कहूँ दिल से,
इस दर्द का अहसास भी है मेरे लिए सही।

खोया रहता हूँ मैं तेरे याद में,
बस तुम्हारे दिए गए हर अवसाद में,
बस एक बात चाहता हूँ ऐ मेरी ज़िंदगी,
बस मुस्कुरा दे एक बार मुझपे एक बार दिल से।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

ज़ख़्म…

उन ज़ख्मों को आप ना याद दिलाइए,
जिन ज़ख्मों में बसा हुआ है आपकी तस्वीर,
अब तो इन ज़ख्मों के सहारे मैं,
अपने प्यार को यादों में बदल रहा हूँ।

भूल सकता हूँ एक बार आपको,
पर भूल नहीं सकता आपके कहे वो बोल,
पहले मेरे प्यार को स्वीकार किया आपने,
फिर आपने मेरे अस्तित्व को इंकार भी किया।

शायद अब मुझे दर्द सहने की,
आदत सी पर गयी हैं,
क्योंकि इस दर्द में मुझे,
तुम्हारी अक्स दिखती हैं।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

जज़्बात…

चाहे लोग कहे हज़ार,
अपने कर्तव्य को आगे रखो आप,
लोगों का क्या है जनाब,
वो तो अच्छे को भी कहेंगे ख़राब।

दिन हो या रात,
अपनों को करो तुम याद,
रहो ख़ुश तुम भी खुद में,
और रहो ख़ुश आप भी अपनों के साथ।

शायद वो दिन आए कभी,
जब करना पड़े आपको मेरी याद,
पर अगर आ भी गया ऐसा दिन,
तो पाओगे आप मुझे अपने दिल के पास।

कभी देखा है आपने,
टहनी तने से अलग हो सुख जाते है,
पत्ती सूर्य के किरण के बग़ैर रूठ जाते हैं,
वैसे ही आपके बग़ैर ख़ुशियाँ का साथ मुझसे छूट गयी है।

प्यार करना और अपनाना,
दिल के है दो दरवाज़े,
एक रिश्ते में सिर्फ़ प्यार है,
दूसरे में प्यार के साथ है परिवार।

करो आप मुझे याद अपने दिल से मुझे …. बस एक बार।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

नज़र…

तुमने जो नज़र फेरी मुझसे,
मेरी क़िस्मत मुझसे रूठ गयी,
तुमको प्यार से मनाने की चाहत अब,
भावनाओं के समंदर में ना जाने क्यों डूब गयी।

पहले अपनाना फिर रूठ जाना,
और मेरे प्यार को भूल जाना,
शायद हैं मेरी ही कोई भूल,
पर बता तो दो तुम मुझे मेरा क्या हैं क़सूर।

अब तो बस हैं मुझे चुप रहना,
तुम्हारे दिए हर ज़ख़्म को समझना,
बस अब यही बाक़ी हैं मेरे जीवन में,
चुप चाप तुम्हारे ख़ुशियों की कामना अपने दिल से करना।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

मेरी अभिव्यक्ति…

इस वीरान सी ज़िंदगी में,
ख़ुशियों की लहर लौट आई,
जब आप मुझसे मिली,
मुझे जीने की महत्व समझ में हैं आई।

बचपन से लेकर कल तक,
बस जी रहा था औरों के लिए,
आज आपसे मिलने के बाद,
जीने की ईक्षा हुई सिर्फ़ खुद के लिए।

शायद ईश्वर की महिमा थी,
जो आप थी मुझसे मिली,
चन्द घड़ियाँ की ख़ुशी,
मुझे आपके होंठों से हैं मिली।

अच्छी थी मुलाक़ात आपसे,
काफ़ी कुछ सीखने को मिली,
प्यार तो दी कुछ समय आपने,
पर साथ में ख़ुदगर्ज़ी सिख भी मुझे मिली।

ना जाने क्यों मैं,
आपके लिए आप का ना रहा,
वही जो अपने लिए जी रहे थे,
वो आपके अपने बन गए।

मुझे मालूम है प्यार अहसास है,
जो माँग नहीं सकता है मेरा दिल,
चुप चाप रह लूँगा मैं आपके बिना,
पर बाँट नहीं सकता मैं ये अहसास कभी।

शायद आप भी सोचती होंगी,
क्यों दूर आपसे जा रहा हैं मेरा दिल,
पर एक बात समझ लो आप भी,
जब एक से प्यार करते है तो दूसरे के साथ नहीं लगाते हैं दिल।

अब आप जी लो अपनी सोच की ज़िंदगी,
मैं भी जी लूँगा अपने सोच के साथ ज़िंदगी,
अब ना आना आप कभी मेरे पास,
क्योंकि टूटे विश्वास के साथ नहीं जी जाती हैं ज़िंदगी।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

आप…

आप पूछ रही थी,
क्यों दूर जा रहा हैं ये दिल,
मैं भी आपसे पूछता हूँ आज,
क्यों पास रहे आपके मेरा दिल।

क्या कभी इकरार किया हैं आपने,
मेरे प्यार से किए गए हर एक इकरार को,
कैसे रहूँ आपके क़रीब आपका बन कर,
जब दिल में आपने रहने की जगह नहीं दी।

आपके दिल में मेरा वजूद,
बस खिलौने सा बनकर रह गया हैं,
जिससे आप पाना तो चाहते हों,
बस खेलकर छोड़ जाने के लिए।

क्यों बनूँ खिलौना मैं,
आपके दिल को बहलाने के लिए,
मुझे प्यार हैं वो अहसास का,
जो आपने कभी गलती से दिए हैं मुझे।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

शुभकामनाएँ…

दीपावली के इस पावन पर्व में,
आपको मेरी ढेर सारी शुभकामनाएँ,
जगमगाए ख़ुशियों से भरा दीपक,
आपके लिए गए हर एक शुभ कदम पे।

लक्ष्मी का साथ,
लक्ष्मी के साथ हमेशा बनी रहे,
धन और दौलत की कमी,
कभी आपको ना रहे।

आपकी ख़ुशियों की चमक,
सूर्य प्रकाश से भी ज़्यादा तेज निखरे,
और इस प्रकाश की चमक में,
मेरे दूर जाने का दर्द आपको कभी ना दिखे।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

साथ…

साथ…

साथ रहना,
शायद साथ नहीं होता,
जैसे कभी कभी याद करना,
प्यार नहीं होता।

जब हर घड़ी सोच को,
दिल से दस्तक मिले,
तभी सच्चे प्यार को,
दिल से जीने का साथ मिले।

शायद तुम्हारे लिए,
अब मेरा साथ ना मिले,
बस अब तुम हो सिर्फ़ मेरे याद के लिए,
पर ये प्यार हैं बस अब सिर्फ़ मेरे लिए।

रहो तुम ख़ुश ऐसी कामना हैं मेरी,
दिवाली पर्व की ढेर सारी शुभकामनाएँ है मेरी,
मिले तुम्हें ख़ुशियाँ जमाने की,
और मुझे भूल जीने की साहस तुम्हें मिले।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

क्यों…

यों मेरे दिल को,
दूर जाने में तकलीफ़ हो रही है,
पर शायद पास रहने से,
तुम्हें और भी तकलीफ़ हो सकती हैं।

चलो अच्छा हैं ये भी,
हम अपना प्यार अपने पास ही रख ले,
क्योंकि करते तो हैं प्यार हम दिल से,
पर इकरार से ना जाने क्यों हम डरते हैं।

अब ना कहेंगे कभी,
दिल की सारी बातें तुमसे,
क्योंकि अब बाँटना है जज़्बात,
सिर्फ़ तुम्हारे साथ बीते याद के संग।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

उनके लिए…

अहसास से मेरी ज़िंदगी का,
अनोखा सा रिश्ता हैं,
जैसे प्यार तो उनसे करते हैं पर,
अब उनके लिए अहसास दिल में कम रखते हैं।

शायद मेरा बोलना,
अब अच्छा नहीं होगा,
क्योंकि उनके दिल में मेरे लिए,
अब कोई सपना नहीं होगा।

चुप रहना ही,
अब मेरी नियति बन गयी हैं,
क्योंकि झूठ में जीना मुझे गँवारा नहीं,
और सच समझने की उन्हें कोई परवाह नहीं।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com