कैसा हैं ये साथ…

कैसा हैं ये साथ,
जो साथ ना रह सके हम,
अपना बनाना चाहे दिल,
पर अपना ना बना सके हम।

कैसा हैं ये साथ,
जो जीने की चाहत जगाया आपने,
जब जीने लगे हम,
तो मरने के लिए छोड़ चले गए आप।

कैसा हैं ये साथ,
जो जानते है हम आपके दिल की हर कही,
आपने दिल की बात तो हमें बता दी,
पर दिल हमें ना दे सकी।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

तुम कुछ ख़ास हो…

कभी कभी सोचता हैं मेरा दिल,
काश समझा सकता मैं खुद को तुम्हें,
चाहता हूँ तुम्हें खुद के वजूद से ज़्यादा,
पर अपने चाहत के लिए तुम्हें नहीं खो सकता मैं।

तुम कुछ ख़ास हो,
मेरे जीवन की आस हो,
तुमसे दूर रहकर भी जी लूँगा मैं,
पर तुम्हें दुःख देकर जी नहीं पाऊँगा मैं।

तुम ख़ुश रहो लिए अपनी अच्छी सेहत साथ,
चेहरे पे रहे तुम्हारे ख़ुशियाँ भरी मुस्कान,
मेरा वजूद तुम्हारे ज़िंदगी में रहे या नहीं,
पर तुम्हारे सुख समृद्धि सदा विकास हो।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

अपनापन …

अपना सा लगता हैं वो पल,
जब दिल की सोच से देखता हूँ तुम्हें,
पर जब हक़ीक़त की सोच से देखता हूँ तुम्हें,
पाता हूँ खुद को जैसे सागर में डूबता हुआ कश्ती।

मेरी हालत शायद मुझे ही मालूम,
खुद को बदलने की कोशिश कर रहा हूँ,
अपने हँसी को कब्र बना मैं,
चुप्पी के फूलों से सजा रहा हूँ।

तुम्हारी सोच काश तुम्हारी होती,
समझ पाती तुम मेरे अनकहे से दर्द,
काश अपने मधुर वाणी से तुम,
प्यार में दिए ज़ख़्म को भर पाती।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

प्यार…

अगर दिल में प्यार ना हो तुम्हें,
इंकार सजाकर रखा हो लबों पे तुम अपने,
समझ सकते है प्यार नहीं है तुम्हें मुझसे,
और जी लेंगे हम दूर रहकर अपने प्यार से।

शायद ये भूल हो गयी है मुझसे,
नहीं समझा पाया प्यार कितना हैं मुझे तुझसे,
इस भूल की सजा तो जीनी पड़ेगी मुझे,
अब तो अवमान भरी ज़िंदगी जीनी पड़ेगी मुझे।

तुमने किया जो तुम्हें अच्छा लगा,
मैंने किया जो मुझे सच्चा लगा,
शायद तुम्हारी अच्छाई है मुझसे दूर रहने में,
और मेरी सच्चाई हैं तुम्हारे याद लिए दिल जीने में।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

दूरी और मजबूरी…

ना जाने क्यों मेरा दिल,
चाहने लगा इस पत्थर दिल परी को,
दिल में चाहत थी उन्हें अपनाने की दिल से,
पर रो रहा दिल लिए दूरी और मजबूरी।

क्यों वो पल होते हैं जीवन में,
जब किसी के चाहत में हम खुद को खो जाते हैं,
सजा मिलती हैं हमें जीने की,
पर खुद से खुद को दूर पाते हैं।

शायद होगी कोई उनकी अपनी ही मजबूरी,
या सोच होगी उनकी थोड़ी सी अधूरी,
जो नहीं समझ पाई मेरे दिल की सच्चाई,
सामने तड़पता रहा मैं और उन्होंने मुझ पर तरस नहीं आई।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

अनकही…

कुछ साथ अपनों की,
पीछे छूट जाते है कभी कभी,
दिल की अनकही बातें भी,
समझने वाले समझ कर भूल जाते हैं।

अनजाने में कभी कभी,
हम छोटी सी भूल कर जाते है,
दिल की अनकही चाहत को,
हम अपनों को कह जाते है।

जानकर दिल की हालत,
वो मंद मंद मुस्कुराते हैं,
अपनाने की हिम्मत जो नहीं हैं उनमें,
इसीलिए ठुकरा कर वो आगे बढ़ जाते हैं।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

लोग क्या कहेंगे…

जब खुद की सोच साथ ना दे,
नहीं हो सच्चाई झेलने की ताक़त इरादे में,
तब खुद को छुपाने का बेहतर तरीक़ा है,
बोलेंगे लोग क्या कहेंगे हमें।

लोगों के नाम के पीछे,
छिपे है कितने ही कमजोर इरादे,
अगर खुद की हिम्मत में हो कमी,
तो लोगों का नाम का सहारा हम लेते हैं।

शायद ही कभी समझ पाओगी,
अगर समझी तुम तो पछताओगी,
होनी जो लिखा हैं ईश्वर ने नसीब में,
क्या लगो की सोच उसे बदल पाएँगे।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

बेख़बर…

बेख़बर रहकर भी हम,
आपकी हर खबर रखते हैं,
खुद को जब देखते हैं आईने में,
सिर्फ़ आप ही मुझे दिखते हैं।

शायद ये मेरी तपस्या का फल है मेरा प्यार,
इसीलिए खुद को देखता हूँ मैं आपमें,
उम्मीद नहीं है दिल में और कुछ भी चाहने का,
क्योंकि आपकी ख़ुशी ही अब मेरा जीवन हैं।

नाराज़ मत हो आप कभी,
मुझे भूल कर आप जी लो अपनी ज़िंदगी,
आस्था फिर भी अडिग रहेगा मेरे प्यार पर,
क्योंकि आस्था है तो ईश्वर हैं वर्ना ईश्वर पत्थर की मूरत हैं।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

माँ का प्यार…

उन लम्हों को छिपा लूँ,
बनाकर रखूँ दिल में यादगार,
मेरी दुनिया आज भी तुम्हारे कदमों पे है,
पाने को माँ का प्यार।

बचपन में तमन्ना थी दिल में,
बड़ा हो जाऊँ मैं आज कल ही में,
पर ये किधर पता था पीछे छूट जाएगी,
माँ के हाथों से किया दुलार।

व्यस्त जीवन जवानी का,
छूट गया माँ का साथ,
जिन हाथों ने चलना सिखाया,
उनसे ना मिलने का कारण हमने व्यस्तता बताया।

मतलबी बन सब भूल गया,
माँ का आँचल ना जाने कब छूट गया,
पर क्या पाया इस भाग दौड़ भरे जीवन में,
सिर्फ़ तिरस्कार और छूटा हुआ माँ का प्यार।

शायद इसलिए लिख रहा हूँ मैं आज,
याद कर माँ के द्वारा दिया गया प्यार,
गलती की तुम्हें भूल कर माँ,
तुम्हारे प्यार का मैं कर रहा हूँ इंतज़ार।

माँऽऽऽ

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

डर लगता हैं…

डर लगता हैं कुछ कहने में,
ख़ौफ़ लगता हैं अब जीने में,
एक बोल सुनने के लिए मैंने,
तंज भरे अनेक वाणी बाण सहे।

कहते हैं वो किसने कहा की उनसे प्यार करे,
जैसे प्यार उनसे पूछ कर करना था हमें,
प्यार तो अहसास हैं जो मेरे दिल में है बस गयी,
चाहे आप प्यार मुझसे करे या किसी और के लिए जिए।

जिसे आप अपना समझ अपनों को ठुकरा रहे,
वही आपके रास्ते में अनेक पनस लगा रहे,
पर कुंठित मिज़ाज आपका किधर देखे सच्चाई,
अपने सोच की परिपेक्ष से आपको झूठों में दिखे सच्चाई।

शायद गलती हो गयी हैं मुझसे,
जो दिल के अरमान साझा किया हैं आपसे,
इस गलती कि सजा तो जीनी पड़ेगी मुझे,
अब ना बोलूँगा दिल की कही कभी आपसे।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

Disappointment…

I am feeling so depressed today,
As I caused disappointment in your way,
What is the use of this stupid life,
When I cannot bring felicity in your way.

May God bless you with your happiness,
I always wish good for your thought and say,
Don’t worry about me and my depressed soul,
As I will find my happiness and way to live.

As my cry hardly means anything to you,
All my emotions is rubbish thing for you,
But I will always keep wishing good for you,
This is my way as I know this you have not said.

Kunal kumar

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com

ख़्वाब और तमन्ना…

अगर ख़्वाब हो परिपूर्ण,
तो तमन्ना होगी और चाहत की,
संतुष्टि किधर मिलती हैं जीवन में,
जिसे दिल से चाहत के फ़साने लिखने हों।

यहाँ तो लोग अधूरी ख्वाहिशों में,
जीवन जीने का मज़ा ढूँढते है,
मैं तो अपने अधूरी ख़्वाबों को,
मुकम्मल करने का सोचता हूँ।

अगर सच में हिम्मत है दिल में,
और सच्ची चाहत है जीवन जीने की,
करो हिम्मत दिल में तमन्ना रखने की,
और बढ़कर कोशिश करो उसे पाने की।

कुणाल कुमार

Insta: @madhu.kosh
Telegram: https://t.me/madhukosh
Website: https://madhukosh.com